home Children Corner चालाक लोमड़ी और कौवा (Chalak Lomadi aur Kauwa) – Short Story

चालाक लोमड़ी और कौवा (Chalak Lomadi aur Kauwa) – Short Story


बहुत पुरानी बात है| एक कौआ भोजन की तलाश में इधर उधर भटक रहा था| परंतु, उसके हाथ कुछ न लगा| वह थका मांदा एक पेड़ पर जा बैठा| अरे वाह! किस्मत हो तो ऐसी – उसे एक प्लेट में रोटी का टुकड़ा दिखाई दिया| वह प्लेट के पास पहुँचा, उसने अपनी चोंच से उसे उठा लिया और उड़ने लगा| बहुत से कौवे उसके पीछे पीछे उड़ने लगे| वो भी रोटी को उससे छीनना चाहते थे| वो सबको चकमा देने में कामियाब हो गया और एक पेड़ की शाखा पर जा कर बैठ गया|

उधर ही कहीं एक लोमड़ी वहाँ से गुज़र रही थी| लोमड़ी ने कौवे की चोंच में फंसी रोटी देखी तो उसके मुँह में पानी आ गया| उसने जल्द ही कौवे से उसकी रोटी अपने कब्ज़े में लेने की योजना बनाई और उसने कौवे की ओर देखा और बोली – “अरे कौवे भाई, तुम कितने खूबसूरत हो”| “मैं अपना परिचय तुम्हे दे दूँ – मैं एक भोली – भाली लोमड़ी हूँ| मेरी सहेलियों ने मुझे बताया है कि तुम्हारी आवाज़ में एक ग़ज़ब की मिठास है | क्या यह बात सही है? ” कौआ यह सुन कर हैरान रह गया – आज तक तो किसी ने उसकी आवाज़ की तारीफ़ नहीं की थी| परंतु वह चुप रहा| “ कौवे भाई, अपने मधुर आवाज़ में क्या तुम मेरे लिए एक गाना नहीं गा सकते, सुनाओ न भैया | ” परंतु अभी भी वह मौन था| लोमड़ी फिर बोली – “क्या तुम अपनी प्यारी बहन की इतनी सी इच्छा भी पूरी नहीं कर सकते?” “ तुम कितने सुंदर हो, तुम्हारे पंखों का तो कहना ही क्या | मेरे लिए एक गाना गाओ न कौवे भैया |” कौआ उसके झाँसे में आ गया| उसने अपनी चोंच खोली और लगा – कांव कांव करने| अरे, यह क्या, रोटी उसकी चोंच से निकली और ज़मीन पर आ गिरी | लोमड़ी ने झट से उसे झपट लिया और खा गयी | लेकिन जब तक कौवे को समझ में आता कि क्या हुआ, लोमड़ी वहाँ से चल दी| कौआ उदास हो गया|

अब पछताए क्या होत, जब चिड़िया चुग गयी खेत| तभी तो कहते है – चापलूसों से बचो, इनका विश्वास नहीं करना चाहिए |

TAGS:

Shiv Kumar

I'm a webmaster science 2004. But in blog, I'm new one. I try to share useful information on my blog in various categories. I hope you will like my blog posts & send me suggestion also. Thanks